40.1 C
Varanasi

Bhadohi Election 2024 : डॉ विनोद बिंद ने भदोही लोकसभा सीट से किया नामांकन, डिप्टी सीएम बृजेश पाठक ने समर्थन में किया जनसभा, प्रचंड जीत का किया दावा…

Published:

The News Point : भदोही लोकसभा क्षेत्र से भाजपा प्रत्याशी डॉ विनोद बिंद ने शनिवार को नामांकन किया। उनके नामांकन में सूबे के डिप्टी सीएम बृजेश पाठक, आयुष मंत्री दयाशंकर मिश्र दयालु कैबिनेट मंत्री आशीष पटेल जैसे कई दिग्गज मौजूद रहे। नामांकन के बाद डा. विनोद बिंद ने जुलूस निकाला और स्थानीय जनता से सीधे जुड़े। इसके बाद आयोजित जनसभा में भाजपा सरकार की उपलब्धियों को एक-एक कर गिनाया और भरोसा दिया कि भाजपा सत्ता में लौटी तो गरीबों, पिछड़ों व कमजोर वर्ग के दिन बहुरेंगे।

डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने कहा कि कोई लड़ाई में नहीं है। एक तरफा बीजेपी की लहर चल रही है। भदोही के प्रत्याशी डॉ. विनोद बिन्द प्रचंड बहुमत से जीतने जा रहे हैं। जनसभा में यहां लोग उमड़े हैं, जाति धर्म संप्रदाय से ऊपर उठकर बीजेपी कैंडिडेट को लोग वोट करने जा रहे हैं। भाजपा की नीतियां और विकास कार्य जन-जन तक पहुंचा है। योगी-मोदी की गरीब कल्याण योजना जन-जन तक पहुंची है.

जनता का भरोसा योगी-मोदी और डॉ. विनोद बिन्द पर बढ़ा है। यह जो महासमर और चुनावी युद्ध चल रहा है, वह राम मंदिर बनाने वालों और निहत्थे कारसेवकों पर गोली चलवाने वालों के बीच हो रहा है। इसलिए मैं कहता हूं कि सब लोग एक जुट हो जाएं और देश का विकास करने वाले पीएम मोदी को तीसरी बार प्रधानमंत्री बनाने का काम करें। ममता बनर्जी और गठबंधन जीरो-जीरो सीट पाने वाले हैं। रायबरेली, कन्नौज, अमेठी सहित यूपी की सभी 80 की 80 सीटों पर भाजपा अपना परचम लहराएगी।

विदित हो कि भाजपा ने भदोही सीट से विनोद कुमार बिंद को टिकट दिया है। विनोद बिंद अभी मझवां सीट से विधायक हैं। 2022 के विधानसभा चुनाव में मिर्जापुर के मझवां से समाजवादी पार्टी से टिकट मांग रहे डॉ. विनोद कुमार बिंद को असफलता मिली थी। सपा के लिए उन्होंने लंबे समय तक प्रचार भी किया था। आखिरी समय में उन्होंने निषाद पार्टी का दामन थामा था और फिर एनडीए के प्रत्याशी के तौर पर बड़ी जीत दर्ज किए थे।

बता दें कि भाजपा प्रत्यासी मूलरूप से चन्दौली के कवई पहाड़पुर के रहने वाले है, जो कि बेहद ही सामान्य परिवार जन्मे और आर्थिक विषमताओं के बीच अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया और गोल्ड मेडल प्राप्त करते हुए आर्थोपेडिक सर्जन बने। उन्होंने बतौर डॉक्टर गरीब व जरूरत मंदों की दिल खोलकर मदद की और बहुत ही कम दिनों में चन्दौली जिले के सबसे बड़े डॉक्टर के तौर पर अपनी पहचान स्थापित की। इस दौरान वे अपने समाज और लोगों के बीच एक आइडियल के तौर पर उभरे।

बिंद बिरादरी समेत गरीब बच्चियों की सामूहिक शादी का बीड़ा उठाया। पिछले 10 सालों में करीब 1 हजार बेटियों की शादी का जिम्मा उठाया। उनकी उभरती सामाजिक छवि से प्रभावित होकर अखिलेश यादव ने उन्हें पार्टी जॉइन कराते हुए प्रदेश कार्यकारिणी में शामिल किया, लेकिन मिर्जापुर के मझवां विधानसभा सीट से टिकट न मिलने पर निषाद पार्टी जॉइन करते हुए बतौर एनडीए उम्मीदवार चुनाव लड़े और कम समय मिलने के बावजूद प्रचंड जीत दर्ज की। इस जीत ने उन्हें विशेषज्ञ डॉक्टर से एक मझे हुए राजनेता के तौर पर पहचान दी।

विधायक बनने के लिए बाद उनका राजनैतिक और सामाजिक दायरा बढ़ा। वे मिर्जापुर के साथ ही भदोही में ही खासे सक्रिय रहे। जिसके बाद लोगों के बीच उन्हें सांसद बनाने आवाज बुलंद होने लगी। खास बात यह है कि डॉ विनोद बिंद चन्दौली मिर्जापुर भदोही समेत पूर्वांचल में बिंद बिरादरी के बड़े ने माने जाते है।

सम्बंधित पोस्ट

लेटेस्ट पोस्ट

spot_img

You cannot copy content of this page