30.1 C
Varanasi

ऑनलाइन हाजिरी के विरोध में उतरा शिक्षक, शिक्षामित्र और अनुदेशकों का संयुक्त मोर्चा, बीईओ को ज्ञापन सौंप जताया विरोध 

Published:

Chandauli news : शहाबगंज कस्बा स्थित बीआरसी पर शुक्रवार को परिषदीय विद्यालयों में ऑनलाइन उपस्थिति के विरोध और लंबित मांगो को पूर्ण करने हेतु अध्यापकों द्वारा धरना प्रदर्शन का आयोजन किया गया. जिसमें विकास खण्ड शहाबगंज के सभी शिक्षक संघ,शिक्षामित्र संघ व अनुदेशक संघ ने भाग लिया. धरना प्रदर्शन के उपरांत खण्ड शिक्षा अधिकारी शहाबगंज को मुख्यमंत्री को सम्बोधित अपनी विभिन्न मांगो से सम्बंधित ज्ञापन दिया गया. धरना मे उपस्थित शिक्षकों ने अपने अपने विचार रखे.

जिसमें सभी शिक्षकों, शिक्षामित्रों व अनुदेशकों की पूर्व में मांगी गई. सभी मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा. तब तक हम लोग बायोमेट्रिक हाजिरी का विरोध करेंगे. इस बैठक में सभी शिक्षक संघ,शिक्षामित्र संघ व अनुदेशक संघ के सभी वरिष्ठ पदाधिकारियों ने जोर देकर कहा कि प्रेरणा पोर्टल पर उपस्थित में महिला शिक्षकों की सुरक्षा और सम्मान के प्रति कोई विश्वसनीय सुरक्षा का ध्यान नहीं रखा गया है. इसके दुरुपयोग की संभावना प्रबल है. 

ऑनलाइन हाजिरी परिषदीय विद्यालयों ग्रामीण व पार्वतीय, दुर्गम व सुदूर क्षेत्रों में अवस्थित है. जहां विपरीत मौसम में आवागमन मार्ग अवरुद्ध हो जाते हैं और साथ ही नेटवर्क की भी समस्या बाधित रहती है. ऐसी स्थिति में शिक्षक अपने कार्य क्षेत्र में उपस्थित होते हुए तकनीकी खामियों के कारण अनुपस्थित माना जाएगा.

 राज्य कर्मियों की भांति शिक्षकों को भी ग्रीष्मावकाश की जगह 31 अर्जित अवकाश प्रदान किए जाएं. ताकि आवश्यकता पड़ने पर कर्मी उपभोग कर सकें, पुरानी पेंशन कों बहाल किया जाय lशिक्षामित्र अनुदेशक जो इतने वर्षों से कार्य कर रहे हैं. उनकी भी समस्याओं पर सरकार शून्य है. कहा कि गैर शैक्षणिक कार्यों से शिक्षकों को मुक्त रखा जाए. सरकार को हम लोगों के द्वारा पूर्व में जो मांगपत्र सौंपा गया है. उस विभिन्न मांग पत्र को लागू करे. उसके बाद ही शिक्षक बायोमेट्रिक हाजिरी देंगे. 

विभिन्न वक्ताओं ने कहा कि हम लोग बेसिक शिक्षा विभाग द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों को धरातलीय पृष्ठभूमि पर लागू करने का कार्य किया है, और बेसिक शिक्षा विभाग का खोया हुआ सम्मान वापस दिलाया है. जिसके लिए हम लोग तन,मन व धन से सरकार के साथ खड़े रहते हैं. लेकिन हम लोगों की कई समस्याएं हैं, जिसे दूर करना भी सरकार का कर्तव्य बनता है. 

इस दौरान मुख्य रूप से केशरी नंदन जायसवाल,विजई प्रसाद राजेश यादव ,प्रवीण कुमार, विमला कुमारी ,उषा सिंह, चंचल कुमार अशफाकुर्ररहमान,विकास यादव, समीम अहमद अभिनव कुमार सिंह, अजय कुमार सिंह ,अभिषेक सिंह,मनीष तिवारी,इंद्रपाल सिंह,बृजमोहन सिंह,मनोज तिवारी, सैयद यूनुस, कन्हैयालाल गुप्ता ,उपेंद्र जायसवाल,विकास तिवारी, शमशेर बहादुर सिंह,दीपक सिंह,अवधेश कुमार,विमला कुमारी,राजेश पाण्डेय,रामस्वरूप यादव,प्रवीण तिवारी,समद अली आदि अध्यापक मौजूद थे.

सम्बंधित पोस्ट

लेटेस्ट पोस्ट

spot_img

You cannot copy content of this page