26.1 C
Varanasi

Chandauli news : सीएमएस के दावों की पोल खोल रहे जिला अस्पताल में पड़े विकलांग स्ट्रेचर, मरीज और तीमारदार हो रहे परेशान

Published:

Chandauli news : अगर आपको इमरजेंसी है,और इलाज के लिए जिला अस्पताल जा रहे है, तो यह खबर आपके लिए ही है. मुख्यालय स्थित पंडित कमलापति त्रिपाठी जिला चिकित्सालय में स्टोर में सामान उपलब्ध होने के बाद भी चिकित्सा और कर्मचारियों को नहीं मिल पाता है, इसका उदाहरण जिला अस्पताल के इमरजेंसी के बाहर पड़े स्ट्रेचर से देख सकते हैं. स्ट्रेचर क्षतिग्रस्त होने से इमरजेंसी के मरीजों और तीमारदारों को परेशानी उठानी पड़ती है. इसके लिए स्वास्थ्य कर्मियों की ओर से इमरजेंसी में स्टेचर के साथ-साथ अन्य स्वास्थ्य उपकरण की मांग की जाती है, स्टोर कीपर की तरफ से उपलब्ध नहीं कराया गया. हालांकि सीएमएस का दावा है कि इमरजेंसी मेडिकल ऑफिसर जरूरत पड़ने पर सामान उपलब्ध कराए जाते हैं.

विदित हो कि पंडित कमलापति त्रिपाठी संयुक्त जिला चिकित्सालय में प्रतिदिन लगभग 1 हजार से अधिक ओपीडी होती है. इसके अलावा 50 से अधिक इमरजेंसी में भी मरीज आते हैं. जिला अस्पताल में आने वाले मरीजों में ज्यादातर ऐसे मरीज होते हैं, जिन्हें बिना स्ट्रेचर के इमरजेंसी वार्ड में नहीं ला सकते है. लेकिन  इमरजेंसी के बाहर टूटे पड़े स्ट्रेचर के सहारे गिरते संभालते मरीजों को घसीटते हुए इमरजेंसी में ले जाते हैं. ताकि उनका इलाज हो सके. 

जिला अस्पताल स्थित इमरजेंसी का ये हाल तब है जब स्टोर में नए स्ट्रेचर व अन्य उपकरण मौजूद है. लेकिन समय से उपलब्ध नहीं कराया जाता है. सीएमएस का दावा है कि चार नए स्ट्रेचर दिए गए, लेकिन जिला अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड के बाहर खराब पड़ा इकलौता स्ट्रेचर यह दर्शाता है कि उनका दावा कितना सच है.

इस बाबत पंडित कमलापति त्रिपाठी संयुक्त जिला चिकित्सालय की सीएमएस उर्मिला सिंह ने बताया कि जिला अस्पताल की इमरजेंसी के लिए चार स्ट्रेचर दिए गए हैं, लेकिन इधर-उधर मरीज और तीमारदारों के द्वारा किए जाने के कारण परेशानी हो रही है. किसी भी तरह की कमी होने पर चिकित्सकों को तत्काल अवगत कराना चाहिए ताकि समय से उन्हें उपकरण उपलब्ध कराया जा सके.

सम्बंधित पोस्ट

लेटेस्ट पोस्ट

spot_img

You cannot copy content of this page