25.1 C
Varanasi

चन्दौली की बेटी सुरुचि कुमारी को मिला सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की ओर से राष्ट्रीय फेलोशिप अवार्ड

Published:

Chandauli news : ‘मंजिले उन्हीं को मिलती है जिनके सपनों में जान होती है. पंखों से कुछ नहीं होता, हौसलों से उड़ान होती है.’ये लाइने चन्दौली की बेटी सुरुचि कुमारी पर सटीक बैठती है. जिन्होंने पंखों की बजाय अपने हौसलों पर ऐतबार किया. अपना ही नहीं परिवार और समाज की उम्मीदों को भी पूरा किया. मुगलसराय के कुढ़कला गांव की सुरुचि कुमारी ने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की ओर से राष्ट्रीय फेलोशिप अवार्ड मिला है इससे परिजनों में खुशी है.

विदित हो कि सुरुचि का जन्म एक गरीब दलित परिवार में हुआ है. लेकिन पिता संदीप कुमार ने गरीबी का असर बच्चों की शिक्षा पर नहीं पड़ने दिया. बच्चों में भी निराश नहीं किया.अपनी लगन मेहनत से सिर्फ खुद को आत्मनिर्भर बनाया बल्कि गांव समाज के लिए आइकॉन बनी. सुरुचि ने यूजीसी नेट की परीक्षा पास कर सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की ओर से राष्ट्रीय फेलोशिप अवार्ड पाने में कामयाब रही.

पिता संदीप कुमार ने बताया कि बेटी ने गांव के साथ ही जिले का मान बढ़ाया है. बेटी की इस कामयाबी से दूसरे छात्राओं को भी सीख मिलेगी. सुरुचि के दो भाई हैं. जिनमें से बड़ा भाई बैंक में कार्यरत है,वहीं छोटा भाई ग्रेजुएशन की पढ़ाई कर रहा है.

पूर्व ब्लॉक प्रमुख बाबू लाल यादव ने कहा कि आज के दौर में बेटियां हर क्षेत्र में नाम कमा रही हैं. उन्होंने सुरुचि को बधाई दी और उज्ज्वल भविष्य की कामना की. इस दौरान एसपी तिवारी, एखलाक अहमद, आनन्द शुक्ला, मुकेश कुमार, संजय अग्रवल, निजाम बाबू, कृष्णकांत गप्ता आदि मौजूद रहे.

सम्बंधित पोस्ट

लेटेस्ट पोस्ट

spot_img

You cannot copy content of this page